घर की छतों पर सब्जियों की उपज करने पर सरकार देगी 50% सब्सिडी

केंद्र व राज्य सरकार समय – समय पर नई – नई योजनाएं लाती रहती हैं. इसी कड़ी में बिहार सरकार, राज्य के लोगों के लिए एक बड़ी योजना लायी है. दरअसल बिहार सरकार जमीन न होने या फिर जमीन खाली न होने की वजह से सब्जी की खेती नहीं कर पा रहे हैं लोगों के लिए शहर में हरित क्षेत्र बढ़ाने के उद्देश्य से घरों की छतों पर बागवानी करवाने की योजना बनाई है, जिसमें लोग अब घर की छतों पर सब्जी का उत्पादन कर सकते हैं. गौरतलब है कि इसके लिए बिहार सरकार 50 फीसद सब्सिडी भी मुहैया कराएगी. कृषि विभाग बिहार सरकार की ‘रूफटॉप गार्डनिंग’ नामक यह योजना पहले चरण में राज्य के पांच शहरों – पटना, मुजफ्फरपुर, गया, भागलपुर और बिहारशरीफ में लागू होगी. अगर इसमें सफलता मिलेगी तो आने वाले समय में इसे राज्य के अन्य शहरों में भी लागू किया जाएगा.

बिहार के कृषि मंत्री प्रेम सिंह के मुताबिक, छत पर सब्जी उपजाने के लिए न ज्यादा मिट्टी की आवश्यकता होगी और न ही समुचित सिंचाई के लिए ज्यादा पानी की आवश्यकता पड़ेगी. लाभार्थियों को सब्जी की उपज करने के लिए प्लास्टिक सीट, पॉट, कंटेनर, ट्रे, बीज आदि दिए जाएंगे. एक व्यक्ति को एक ही इकाई दी जाएगी. इस योजना को लेकर सरकार का मानना है कि इस योजना के सफल होने के बाद शहर के लोगों को भी हरी और ताजा सब्जियां मिल सकेंगी तथा शहरी क्षेत्रों में पयार्वरण संतुलन बनाने में भी सहाता मिलेगी.

कृषि मंत्री प्रेम सिंह के मुताबिक, “शहरी क्षेत्रों की भाग-दौड़ की जिंदगी में हरित क्षेत्र तैयार करने के उद्देश्य से बिहार सरकार ने घर की छतों पर बागवानी को प्रोत्साहन देने की योजना को स्वीकृति दी है. छतों पर बागवानी करने के लिए प्रति 300 वर्ग फीट में कुल लागत 50 हजार रुपये के साथ ‘रूफटॉप गार्डनिंग’ योजना स्वीकृत की गई है. इस योजना के अंतर्गत राज्य सरकार 50 फीसद और अधिकतम 25 हजार रुपये प्रति इकाई सब्सिडी देगी.”

कृषि मंत्री सिंह के मुताबिक, “रूफटॉप गार्डनिंग’ के लिए छत पर शेड नेट का भी निमार्ण करवाया जाएगा. ‘रूफटॉप गार्डन’ बहुत ही आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल करते हुए विकसित किया जाएगा. छत पर प्लास्टिक शीट बिछाई जाएगी. इसमें खरीफ, रबी और जायद मौसम के लिए सब्जी के बीज व पौध लगेंगे.” उन्होंने कहा कि इनमें औषधीय एवं सुगंधित पौधे भी लगाए जाएंगे. फूल, ऑरनामेंटल इंडोर और आउटडोर प्लांट लगाए जाएंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *